बुधवार, 26 सितंबर 2012

पढ़ रहा है मंत्र कोई ....

























                                         पढ़     रहा   है  मंत्र ,    कोई  
                                         यवनिका        के    पार्श्व  में 
                                         झर    रहे    हैं,  पात -  पीत ,
                                         फिर   खिलेंगें    बाग -  वन-

                                                               नैराश्य    नहीं    आनंद  हो
                                                                  खिल   उठे क्षितिज -गगन ,
                                                                    यश - भारती  का   गान हो ,
                                                                      उगे   पुनः  सवित ,   नवल-

                                                                दैन्यता- विहीन,स्वर्ण काल
                                                                     का        हो        पुनरागमन-

                                                                  जल    उठे ,   प्रकोप    छद्म

                                                                      दमित      हो     विभीषिका,
                                                                        संवेदना   का मान -  पियूष,
                                                                           पी     सके      वो      धीरता-

                                                                  लिख  सकें   वह  शब्द- सर ,
                                                                       भेद       सके      अंतःकरण-

                                                                 ज्वाल    उर    दहका   कभी,

                                                                     गढ़     सकें   अमर   स्तम्भ
                                                                        पथ- प्रकाश ,प्रज्वलित  रहे ,
                                                                            हो गंतव्य   से सुखद मिलन -

                                                                  बदल   सकें हत -भाग्य   को ,
                                                                       आत्मसात   हो नवल सृजन-

                                                                   शक्ति- कुण्ड से निगमित हुई,

                                                                       प्रज्वलित          रहे     शिखा ,
                                                                         समिधा ,   प्रतिदान    अर्पित
                                                                            सौभाग्य     से   जीवन मिला-

                                                                    मनुष्यता ढले, आकार ले  दया
                                                                         करुना,क्षमा स्नेह से सजे सदन-

                                                                                                     उदय वीर सिंह 





   


           


13 टिप्‍पणियां:

वाणी गीत ने कहा…

करुणा स्नेह क्षमा से सजे सदन !
ऐसे मंत्र तो हर घर में पढ़े जाने चाहिए !
बेहतरीन !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

मान के चलिये, मंत्र अपना प्रभाव डालेंगे, जनमानस में ऊर्जा का संचार अवश्य होगा।

Anupama Tripathi ने कहा…

बदल सकें हत -भाग्य को ,
आत्मसात हो नवल सृजन-

बहुत सुंदर और सार्थक सृजन ...बहुत बधाई ....

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 27-09 -2012 को यहाँ भी है

.... आज की नयी पुरानी हलचल में ....मिला हर बार तू हो कर किसी का .

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

ध्वन्यात्मकता लिए हुए सुन्दर रचना!

Dheerendra singh Bhadauriya ने कहा…

वाह वाह ,,,,,उदयवीर जी,सार्थक सृजन के बधाई,,

बदल सकें हत -भाग्य को ,
आत्मसात हो नवल सृजन-

RECENT POST : गीत,

vandana ने कहा…

नैराश्य नहीं आनंद हो
खिल उठे क्षितिज -गगन ,
यश - भारती का गान हो ,
उगे पुनः सवित , नवल-

दैन्यता- विहीन,स्वर्ण काल
का हो पुनरागमन-

बहुत सुन्दर भाव

सुशील ने कहा…

बहुत खूबसूरत रचना !

Pankaj Kumar Sah ने कहा…

bahut badhiya shodon ka samagam...dhnywad kabhi samay mile to mere blog http://pankajkrsah.blogspot.com pe padharen swagat hai

shikha varshney ने कहा…

कितने खूबसूरत शब्द और भावों का ताना बना..

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

utkrisht prastuti.

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत प्रेरक और सुन्दर अभिव्यक्ति..

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

प्रेरक अभिव्यक्ति!